मैं खुद में खो रहा अपनों से दूर हो रहा हूँ…

मेरा देश मेरा क्षेत्र मेरा गाँव मेरा घर रोम रोम अंदर मेरे देते मुझे ये खबर बोल मीठे मधुर जोड़े एक दूसरे को दर बदर सुन के अपने देश के टुकड़े टुकड़े होने की बात घूँट खून का पी अंदर शहर हो रहा हूँ मैं खुद में खो रहा अपनों से दूर हो रहा हूँ...!! …

Continue reading मैं खुद में खो रहा अपनों से दूर हो रहा हूँ…

Advertisements