अंकित सक्सेना मर्डर : हॉनर किलिंग की आड़ में मुस्लिम आतंकियों को संरक्षण

शीर्षक पढ़कर इस भ्रम में मत पढ़िए कि इस लेख के जरिये किसी प्रकार के सांप्रदायिक सोच को हवा देने की कोशिश की जा रही है। जब हम मुस्लिम आतंकियों की बात करते हैं तो बस मुस्लिम समुदाय की नहीं बल्कि इस समुदाय की सोच में शामिल आतंकवाद से पर्दा हटाकर उसको आपके सामने लाते …

Continue reading अंकित सक्सेना मर्डर : हॉनर किलिंग की आड़ में मुस्लिम आतंकियों को संरक्षण

Advertisements

क्या दोहरेपन से ग्रसित मीडिया और अंधे राजनेता चंदन गुप्ता के परिवार को न्याय दिलाएँगे?

आजादी के लगभग 3 वर्ष के बाद भारतीय संविधान को अधिकारिक रूप से अपनाया गया और तबसे हर वर्ष हम 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाते आ रहे हैं। विश्व के सबसे लोकतांत्रिक देश के वासी होने पर हर भारतीय को गर्व होना भी चाहिए।देश के उन्हत्तरवें गणतंत्र दिवस पर यूपी के कासगंज में मुस्लिमों …

Continue reading क्या दोहरेपन से ग्रसित मीडिया और अंधे राजनेता चंदन गुप्ता के परिवार को न्याय दिलाएँगे?

सुशासन का खोखलापन, बिहार में प्रताड़ित होते ईमानदार अधिकारी

"सच्चाई और ईमानदारी के पथ पर चलने वाले लोगो को अक्सर ठोकरे खाने को मिलती है,अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है लेकिन अंत में जीत उन्ही की होती है।" ये वो ज्ञान है जो वास्तविक दुनिया में कम और किताबो में ज्यादा दिखती है, लोगो के मुँह से बोलते जरूर है लेकिन वास्तविक तौर पर चरित्र में या उनका अनुसरण करने वाले कम ही दिखते है। बिहार में ईमानदार अफसर वरदान की तरह होते हैं, आम जनता में हीरो यही होते है क्योकि …

Continue reading सुशासन का खोखलापन, बिहार में प्रताड़ित होते ईमानदार अधिकारी

क्या वाकई देश का मुसलमान डरा हुआ है?

वर्तमान भारत में मुसलमानों की जनसंख्या लगभग 18 करोड़ है, जो कि कुल जनसँख्या का लगभग 15% है।अन्य किसी भी मुस्लिम देश से भारत के मुस्लिम जनसँख्या में हुए वृद्धि का तुलनात्मक अध्ययन करें तो ये पता चलता है कि भारत में हुए मुस्लिम जनसँख्या में वृद्धि अन्य देशों की तुलना में काफी तेजी से …

Continue reading क्या वाकई देश का मुसलमान डरा हुआ है?

राजनीतिक उपेक्षाओं को सहता विकास से वंचित बिहार का मिथिलांचल

जनता का प्रतिनिधित्व करने वाला नेता जनता का सेवक होता है, जिसे जनता अपने जीवन के विकास के सभी पहलुओं में अग्रणी बनाने के लिए चुनती है। अगर हमारे देश में राजनीती साफ सुथरी होती और ये जनता की सेवा और देश के विकास के लिए की जाती, तो आज हमारा देश विकसित देशों की …

Continue reading राजनीतिक उपेक्षाओं को सहता विकास से वंचित बिहार का मिथिलांचल

ऑनलाइन संसार – खत्म होता शिष्टाचार

इंटरनेट ने जिस गति से आधुनिक जीवन में अहस्तानांतरणीय जगह बनायी है, उतनी ही तेज़ी से इसने समाज में अश्लीलता पडोसी है। ऐसा नहीं है कि अश्लीलता के नाम पर केवल पोर्न व्यापार फला फुला है, बल्कि ऑनलाइन संसार ने समाज में अशिष्टता और उद्दंडता जैसी कुरीतियाँ भी भर दी है। ऐसे शब्द जो आम …

Continue reading ऑनलाइन संसार – खत्म होता शिष्टाचार

घोटाले का लालू और बीमार बिहार

"मैं एक बिहारी हूँ" कोई भी बिहारी इस बात को गर्व से कहे, शर्म से कहे या अफसोस जाहिर करते हुए कहे, इस बात को वो आजतक नही समझ पाए हैं और यकीन मानिये हमारी तरह और भी ऐसे असंख्य बिहारी हैं जो इसी असमंजस में रहते हैं। ऐसी बात नहीं है कि हमें अपनी …

Continue reading घोटाले का लालू और बीमार बिहार

राहत इंदौरी साहेब को समर्पित कुछ पंक्तियाँ

वो खिलाफ़ भी होते हैं बशर्ते क़ौम लिखा हो सिवा इसके कोई और जान, जान थोड़ी है लगेगी आग कहीं तो बुझाना है सबको मिल जुलकर क्या तेरा क्या मेरा घरों में रहता कोई हैवान थोड़ी है यहाँ घर में ही बन बैठे हमारे कई दुश्मन लेकिन हिंद के सैनिक देखते ईमान थोड़ी हैं किसी के …

Continue reading राहत इंदौरी साहेब को समर्पित कुछ पंक्तियाँ

हम सब ट्रोल हैं

सोशल मीडिया का संसार, वास्तविक दुनिया को काल्पनिक तरीके से दिखाने वाले लोगों से भरी पड़ी है। जब मैंने यहाँ कदम रखा था, तो बिलकुल भी नही सोचा था कि मेरे वास्तविक नाम के अलावा भी मुझे अन्य कई नामों से जाना जायेगा। किसी पार्टी की विचारधारा से प्रभावित होना पहले कोई नाम नहीं देती …

Continue reading हम सब ट्रोल हैं

बिहार आँखो देखी : कचरे के ढेर में सड़ता सुशासन 

गाँधी जी ने कहा था स्वच्छता, भक्ति से बढ़कर है। लेकिन बिहार एक ऐसा राज्य है जहाँ स्वच्छता का नामोनिशान दूर-दूर तक नहीं दिखता। गाँव और छोटे शहरों की गंदगी तो चरम सीमा पर है ही, राजधानी पटना तक की सड़कें और गालियाँ गंदगी से बजबजा रही है। वैसे पटना शहर का नाम भारत के …

Continue reading बिहार आँखो देखी : कचरे के ढेर में सड़ता सुशासन